Follow by Email

Saturday, 19 September 2015

क्यू लगे आज तनहा तनहा...



चित्र साभार : https://www.flickr.com/photos/davedugdale/5096953439

क्यू लगे आज तनहा तनहा,
ग़मे फुरसत मे, 
क्यू लगे आज तनहा तनहा,
सारे आम, जहाँ जाम ने दी पनाह 
क्यू लगे आज तनहा तनहा I

जिस शाम की रंग मे 
अकबरे शहंशाह  की ज़ुस्तजू थे आप,
आप की कमी, महफिले शाम हो ज़िक्र,
लगे आज वो महफ़िल तनहा तनहा,
जाम-ए-आतिश लगे तनहा तनहा,
उम्र की लिहाज, आपं सुनाए दास्तान,
मुद्दा'-ए साक़ि हम रहे मेह्फूज , 
बेनाम जीए तनहा तनहा 
अंजान बने , रोशन आप हुए
पर्दे का आशियाना हम जिए , 
जाम हो ख़त्म तनहा तनहा I

छोड़े हम एक प्याला आप के नाम
काँच की आगोश मे छोड़े दिल- ऐ-नादान 
तस्वीर  आपकी  झलके, मुस्कुरा के  बोले 
बेकसी-हा-ए-शब-ए-हिज्र , जो लिख ना पाए I

शीशे  मे ना देख परछाई, बेजुबान आप बोले,
ख़त्म खामोशी एक जाम-ए-लापता यू उतरे, 
ख़तम हो जाम-ए-शाम रंग ना बिखरे, 
तेरे तसबीर, तुझे छोड़े, शीशे  मे दिखे,
ख़त्म हो जन्नत की तलाश , 
शीशे में दिखे तुझसे मिलने की आस,
और जीने का विश्वास I 

रचना: प्रशांत 

1 comment:

  1. बहुत ख़ूब
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete