Follow by Email

Thursday, 21 January 2016

एक खामोश वादा !




धोके मे रहना और ना दे सुकून, 
दिल के ना हो पाना, ना दे सुकून, 
एक कोशिश रब्बा हमसे तू कर ले,
एक घर रोशन हमसे तू कर ले I

यह कोशिश गर हमसे हो पाए,
एक ग़रीब, सीना तान उतर आए, 
तक़दीर बदले, यह रिश्ते ना बदले,
भूल भी जाए, दिल के फिर हो जाए ई

रचना:प्रशांत 

No comments:

Post a Comment