Follow by Email

Wednesday, 16 November 2016

हज़ार की मौत !



बेआबरू हुआ एक रिवाज
बेआबरू था एक समाज...
हम थे गम के नवाज़ 
खाली पॉकेट , सरकार पे नाज़ I 

एक कदम सही दिशा के और
कई उलझने, कई कमाई से चोर
बड़ी तकलीफ़ दिन गुज़रे चार 
अपनाही धन, फ़ासले थे दूर I 

काले धन खोज परिणाम
काश छुप गये, हुए ना-काम 
काले चेहरे का लगे इल्ज़ाम
हज़ार हज़ार नोटो पे लगाम..
एक शाम अपनाने पहुँचे मयखाने,
रंग थे गहरे, संग जाम अपनाए चेहरे 
आए पहुँचे तेरे दुआर-ए- प्यार
दीदार इस्क़ , नज़रे हुई चार I 

निकले शाम की लगाई कीमत,
मिली नसीब सदीओ की सादात,
अजीब था वो शाम-ए-जाम की नशा,
हुकूमत का धोका, चले प्याला और प्यासा I 

रचना : प्रशांत 

No comments:

Post a Comment