Follow by Email

Saturday, 8 November 2014

कुछ रात की बात करें !

धुँधली सी तस्वीर और हल्की  सी आवाज़, 
कभी सोने न दे मुझे नींद में, 
वक़्त खामोश और नज़र खुली है ,
कुछ मौत और कुछ ख्वाब के इंतज़ार में I 

हलकी सी छुअन जो आधी महसूस हो ,
और दर्पण जो कफ़न धीरे से हटाये, 
तस्वीर फिर भी आधी सी दिखे ,
खामोश इशारे समझ ना पाएं I 

शाम डूबे अपनी ही रंग में ,
रात बताये एक अलग सी पहचान ,
सांस कुछ बाकी , धीमी है नज़र ,
पर न खत्म हो इस राज़ का सफर I 

रचना : प्रशांत पांडा   

No comments:

Post a Comment