Follow by Email

Friday, 14 November 2014

बात एक पान की थी

बात एक पान की थी,
बात किसी की शान की थी I

कभी प्यार की तो कभी प्यास की,
शौक के शौक़ीन हम भी हैं I
निकल पड़े हम अल सुबह,
अपने शौक में डूबने को I

हमें शौक हैं ख़ुद को नरगिसी सुबह में डूबोने का ,
हमें शौक हैं ख़ुद को गीले ओस में भिगोने का I

सुबह की ताज़गी छांट रही थी हमारी खुमारी ,
हम नापते थे पगडण्डी जैसे काठ काटती हैं आरी I

ज्यूँ हीं हमने एक कदम था और बढ़ाया ,
एक रंगीन सा चेहरा हमारे आगे लहराया I

मुँह में था उनके पान, और पीछे खड़ी थी एक फ़ौज़ ,
जो थी उनकी शान I

उनकी नवाबी ठाट देखकर हम जान गए उनकी पहचान ,
हम बोल चाल की भाषा में नेताजी कहके देते हैं उनको मान I

जैसे हीं एक गिलौरी ने अपना समय पूरा किया,
दूसरी गिलौरी पेश करने का आया फरमान I

पान की डिब्बी ख़ाली, नेताजी देंगे गाली,
चमचों के सूख गए प्राण , फिर आया एक ज्ञानी चमचे को ध्यान ,
पास के मोहल्ले में बसती हैं एक पान की दुकान,
वो भगा जैसे भागता है तूफ़ान I

इस बीच नेताजी के मुँह की होली थी सूखी,
चमचों की सांस थी अटकी जब नेताजी ने अपनी दांत थी भिंची I

सभी कर रहे थे प्रार्थना ,कहीं झेलीं न पड़े यातना I

इतने में आ गया तूफ़ान लिए हाथ में पान I

नेताजी की बांछें खिल गयी, चमचों को भी सांसें मिल गई I

दांत ने कचरा पान को, जैसे सुबह ने पछड़ा शाम को ,
चमचों ने याद किया राम को , हम चल पड़े अपने काम को I

बात एक पान की थी,
बात किसी के शान की थी I

रचना : प्रशांत

No comments:

Post a Comment