Follow by Email

Sunday, 23 November 2014

हर एहसास को ऐसे ही क़बूल करो...



हर एहसास को ऐसे ही क़बूल करो
न समझने की कोशिश करो
न उसे नाम दो कोई
बस साँसों से महसूस करो
और फिर जिगर से बह जाने दो।

###
रचना: प्रशांत 

No comments:

Post a Comment