Follow by Email

Sunday, 23 November 2014

वो ही ज़न्नत बनाते गए...

जिस्म न सही पर आवाज़ तो बुलंद है,
वक़्त ना सही पर इरादे तो बुलंद हैं I 

क्या हुआ,नहीं हुआ,
इस सोच से वो आगे बढ़ते गए,
खुद खड़े ना हो पाये,
पर कितनो की मंज़िलें बनाते गए I 

वो लुटाते गए और लूट भी गए,
पर हां वो ही ज़न्नत बनाते गए I 
###
रचना: प्रशांत 

No comments:

Post a Comment