Follow by Email

Wednesday, 24 December 2014

जवां जवां लगे जवां...

जवां जवां लगे जवां,
दिल हो जवां, लगे जवां,
कोई खिले, खिले जवां,
महके फ़िज़ा, महके हवा, 
यह भी जवां, वो भी जवां,
हम हुए जवां , हो जाए जवां I 

जवां जवां लगे जवां,
नज़रे जवां, मन को च्छुवा,
ना हो जवां, हो जाए जावा,
वो भी जवां, यह भी जवां,
यह भी जवां , वो भी जवां,
हम हुए जवां, हो जाए जवां I 

जवां जवां लगे जवां,
दिल ने कहा, दिल है जवां,
गीतोके मेले,खुशबु जवां,
साक़ी  भी जवां, साथी भी जवां,
यह भी जवां , वो भी जवां, 
हम हुए जवां, हो जाए जवां I 

जवां जवां लगे जवां,
कोई रहे, अकेले जवां,
कोई दिखाए, वोही जवां,
मेला भी जवां, तन्हाई भी  जवां,
यह भी जवां , वो भी जवां, 
हम थे जवां, हुए जवां I 

रचना : प्रशांत 
###

No comments:

Post a Comment