Follow by Email

Monday, 7 December 2015

वर्कप्लेस पॉलिटिक्स



                                          चित्र साभार :http://www.malaysiaedition.net/wp-
                                           content/uploads/2013/06/OfficePolitics.jpg

यह इंतेहा, आज भी है  बाकी, 
संभाले खुद को जितना, 
यह धोका आज भी है बाकी,
वज़ूद की तसल्ली  उनको भी है 
धोके मे सादगी इधर मे भी है I

यह वर्कप्लेस पॉलिटिक्स ,
अजब सा है ये इनसानी सर्कस , 
इशारो पे नाचनेवाले बने सितारे,
शीशे में खुद को यह ना उतारे, 
ईमान से सब ये खुदा के  प्यारे 
तुम्हे इल्ज़ाम बार बार ये दे 
तुम्हे ना परखे,कोई सबूत ना दे I 

रचना : प्रशांत 

No comments:

Post a Comment