Follow by Email

Saturday, 26 December 2015

हिसाब छोड़, थोड़ा जी ले !


                                                                             
इतनी फिकर किस बात की,
जो होना हे तेरे बस मे कहाँ, 
उम्र ना तेरा गुलाम,ना परछाई, 
जब ये कायनात तुम्हे ना अपनाये 
सलतनते अकबर कहाँ सुकून आए  I

हिसाब कर,पल पल ना तोड़,
इनाम कमा ले, ईमान ना छोड़, 
बेहिसाब पल पल तू जोड़, 
खुशियाँ बिखेर, रिश्तों में बिखर,
खुद को मोड़,  खुदा से जुड़ ई

रचना : प्रशांत 

3 comments:

  1. हिसाब कर,पल पल ना तोड़,
    इनाम कमा ले, ईमान ना छोड़,
    जिंदगी जिंदादिली का नाम है ! शानदार अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद योगी सारस्वत जी!

      Delete
  2. Enjoy 15% Off on any of the print packages and the next Ebook for free to welcome 2016, and also get cash back offer Up to 3500

    Ebook Publishing cash back offer

    ReplyDelete