Follow by Email

Wednesday, 16 December 2015

इतनी मेहेरबानी तू बक्श खुदा...

                                                                             

इतनी मेहेरबानी तू बक्श खुदा, 
की ना अधूरे हम जहाँ छोड़ जाए,
मौत का मुझे कोई गम ना रहे, 
बस तु हमे राह दिखाए I

हुकूम कर हम जहाँ छोड़ जाए,
कोई गम नही ,गर मौत भी आए, 
बस मुझे देख तू खुश नज़र आए, 
तेरे दिया हूनर, बन्दो के काम आए I

रचना: प्रशांत 

2 comments:

  1. हुकूम कर हम जहाँ छोड़ जाए,
    कोई गम नही ,गर मौत भी आए,
    बस मुझे देख तू खुश नज़र आए,
    तेरे दिया हूनर, बन्दो के काम आए I
    बहुत खूब लिखा है आपने प्रशांत जी ! साधुवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद योगी सारस्वत जी

      Delete