Follow by Email

Sunday, 8 February 2015

लंबी खामोशियाँ...

लंबी खामोशियाँ ,
कभी मुझसे ये मुझे जोड़ दे, 
और कभी मुझे 
मेरे दुनिया से अलग कर दे I 

ठिकाना याद ना हो,
पर खत यादो मे भरी हो ,
यह ज़रूरी तो नही ,
इसका भी हिसाब हो I 

रचना: प्रशांत 

4 comments:

  1. ठिकाना याद ना हो,
    पर खत यादो मे भरी हो ,
    यह ज़रूरी तो नही ,
    इसका भी हिसाब हो I
    सुन्दर शब्द

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद योगी सारस्वत जी !

      Delete
  2. Silence speaks its own language and it is often deeper than words.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanx Saru for your precious comments!

      Delete