Follow by Email

Sunday, 25 October 2015

तेरे शरण मे आया!

तेरे शरण मे आया,
तेरा दर्शन पाया, 
जी भर आया,
कुच्छ ना माँग पाया I

इतना  सुकून आया,
दिल मे भी तू ही नज़र आया,
जी भर आया,
पर जी ना भर पाया I

फिर एक बार मिलें,
यह आदेश आया,
तुझे पा लिया.
पर तुझसे बिदा ना ले पाया,
तेरे शरण मे आया,
मिलने फिर चला आया I 

रचना : प्रशांत 

No comments:

Post a Comment